BNMU। बीएनएमयू संवाद के एक वर्ष पूरे

0
80

बीएनएमयू संवाद के एक वर्ष पूरे

कोरोना महामारी ने हमारे जीवन के सभी क्षेत्रों पर काफी नकारात्मक प्रभाव डाला है। इससे शिक्षा-व्यवस्था पर भी काफी प्रतिकूल असर पड़ा है और ऑफलाइन शैक्षणिक एवं सृजनात्मक गतिविधियाँ थम-सी गई है। लेकिन कोरोना आपदा को अवसर में बदलते हुए कुछ संस्थानों एवं व्यक्तियों ने ऑनलाइन शिक्षण एवं सृजन को एक नया आयाम देने का प्रयास किया है। इस कड़ी में बी. एन. मंडल विश्वविद्यालय, मधेपुरा के जनसंपर्क पदाधिकारी डाॅ. सुधांशु शेखर का नाम विशेष रूप से उल्लेखनीय है। उन्होंने ठीक एक वर्ष पूर्व कोरोना काल में लागू लाॅकडाउन के समय का सदुपयोग करते हुए बीएनएमयू संवाद नामक एक यू-ट्यूब चैनल की शुरूआत की। इसके माध्यम से उन्होंने बी. एन. मंडल विश्वविद्यालय और शिक्षा जगत की सकारात्मक सूचनाओं एवं गतिविधियों को जन-जन तक पहुंचाने का सार्थक प्रयास किया।

यू-ट्यूब चैनल बीएनएमयू संवाद के एक वर्ष पूरे होने पर बुधवार को डाॅ. शेखर ने इसकी उपलब्धियों एवं कमियों की समीक्षा की। उन्होंने बताया कि अब तक इस चैनल के लगभग 4870 सबस्क्राइबर हो चुके हैं। साथ ही लोग इस चैनल को कुल एक लाख बासठ हजार आठ सौ बार देख चुके हैं। इस पर तीन सौ से अधिक विडियो अपलोड किए जा चुके हैं। इनमें से कई विडियो हजार से अधिक लोगों द्वारा देखे गए हैं। एक विडियो को पाँच हजार चार सौ व्यू मिला है।

बीएनएमयू संवाद के माध्यम से एक राष्ट्रीय सम्मेलन, एक अंतरराष्ट्रीय वेबीनार, 7 परिचर्चा, 10 राष्ट्रीय वेबिनार का सफलतापूर्वक आयोजन किया जा चुका है। इसके अलावा इस यू-ट्यूब चैनल पर दर्जनों व्याख्यानों का आयोजन हो चुका है। इसमें पूर्व सांसद एवं संस्थापक कुलपति प्रोफेसर डाॅ. रमेन्द्र कुमार यादव रवि, पूर्व सांसद एवं पूर्व कुलपति पद्मश्री प्रोफेसर डाॅ. रामजी सिंह, कुलपति प्रोफेसर डाॅ. राम किशोर प्रसाद रमण, प्रति कुलपति प्रोफेसर डाॅ. आभा सिंह, पूर्व कुलपति प्रोफेसर डाॅ. अवध किशोर राय, पूर्व प्रभारी कुलपति प्रोफेसर डाॅ. ज्ञानंजय द्विवेदी, पूर्व प्रति कुलपति प्रोफेसर डाॅ. फारूक अली, अकादमिक निदेशक प्रोफेसर डाॅ. एम. आई. रहमान, प्रधानाचार्य डाॅ. के. पी. यादव, बीएनमुस्टा के महासचिव प्रोफेसर डाॅ. नरेश कुमार, सिंडिकेट सदस्य डाॅ. जवाहर पासवान आदि के व्याख्यान हो चुके हैं। इस चैनल पर कई महत्वपूर्ण कार्यक्रमों का लाइव प्रसारण किया गया है। कई कलाकारों को इसमें अपनी प्रतिभा के प्रदर्शन का अवसर भी मिला।

उन्होंने बताया कि सबसे बड़ी कमी एक स्थाई कर्मी का नहीं होना है। यदि एक-दो व्यक्ति इसमें स्थाई रूप से कार्य कर रहे होते, तो आज यह चैनल काफी आगे होता। इसके अलावा विडियो क्वालिटी भी अभी उच्च स्तरीय नहीं है।

उन्होंने आशा व्यक्त की है कि आने वाले दिनों में कमियों को दूर किया जाएगा और सब्सक्रिप्शन बढ़ेंगे। उन्होने इसमें प्रत्यक्ष एवं परोक्ष रूप से सहयोग करने वाले सभी लोगों विशेष रूप से तकनिकी सहयोगी मणिष कुमार एवं सौरभ कुमार चौहान के प्रति आभार व्यक्त किया है।

बीएनएमयू संवाद के एक वर्ष पूरे

कोरोना महामारी ने हमारे जीवन के सभी क्षेत्रों पर काफी नकारात्मक प्रभाव डाला है। इससे शिक्षा-व्यवस्था पर भी काफी प्रतिकूल असर पड़ा है और ऑफलाइन शैक्षणिक एवं सृजनात्मक गतिविधियाँ थम-सी गई है। लेकिन कोरोना आपदा को अवसर में बदलते हुए कुछ संस्थानों एवं व्यक्तियों ने ऑनलाइन शिक्षण एवं सृजन को एक नया आयाम देने का प्रयास किया है। इस कड़ी में बी. एन. मंडल विश्वविद्यालय, मधेपुरा के जनसंपर्क पदाधिकारी डाॅ. सुधांशु शेखर का नाम विशेष रूप से उल्लेखनीय है। उन्होंने ठीक एक वर्ष पूर्व कोरोना काल में लागू लाॅकडाउन के समय का सदुपयोग करते हुए बीएनएमयू संवाद नामक एक यू-ट्यूब चैनल की शुरूआत की। इसके माध्यम से उन्होंने बी. एन. मंडल विश्वविद्यालय और शिक्षा जगत की सकारात्मक सूचनाओं एवं गतिविधियों को जन-जन तक पहुंचाने का सार्थक प्रयास किया।

यू-ट्यूब चैनल बीएनएमयू संवाद के एक वर्ष पूरे होने पर बुधवार को डाॅ. शेखर ने इसकी उपलब्धियों एवं कमियों की समीक्षा की। उन्होंने बताया कि अब तक इस चैनल के लगभग 4870 सबस्क्राइबर हो चुके हैं। साथ ही लोग इस चैनल को कुल एक लाख बासठ हजार आठ सौ बार देख चुके हैं। इस पर सात सौ से अधिक विडियो अपलोड किए जा चुके हैं। इनमें से कई विडियो हजार से अधिक लोगों द्वारा देखे गए हैं। एक विडियो को पाँच हजार चार सौ व्यू मिला है।

बीएनएमयू संवाद के माध्यम से एक राष्ट्रीय सम्मेलन, एक अंतरराष्ट्रीय वेबीनार, 7 परिचर्चा, 10 राष्ट्रीय वेबिनार का सफलतापूर्वक आयोजन किया जा चुका है। इसके अलावा इस यू-ट्यूब चैनल पर दर्जनों व्याख्यानों का आयोजन हो चुका है। इसमें पूर्व सांसद एवं संस्थापक कुलपति प्रोफेसर डाॅ. रमेन्द्र कुमार यादव रवि, पूर्व सांसद एवं पूर्व कुलपति पद्मश्री प्रोफेसर डाॅ. रामजी सिंह, कुलपति प्रोफेसर डाॅ. राम किशोर प्रसाद रमण, प्रति कुलपति प्रोफेसर डाॅ. आभा सिंह, पूर्व कुलपति प्रोफेसर डाॅ. अवध किशोर राय, पूर्व प्रभारी कुलपति प्रोफेसर डाॅ. ज्ञानंजय द्विवेदी, पूर्व प्रति कुलपति प्रोफेसर डाॅ. फारूक अली, अकादमिक निदेशक प्रोफेसर डाॅ. एम. आई. रहमान, प्रधानाचार्य डाॅ. के. पी. यादव, बीएनमुस्टा के महासचिव प्रोफेसर डाॅ. नरेश कुमार, सिंडिकेट सदस्य डाॅ. जवाहर पासवान आदि के व्याख्यान हो चुके हैं। इस चैनल पर कई महत्वपूर्ण कार्यक्रमों का लाइव प्रसारण किया गया है। कई कलाकारों को इसमें अपनी प्रतिभा के प्रदर्शन का अवसर भी मिला।

उन्होंने बताया कि सबसे बड़ी कमी एक स्थाई कर्मी का नहीं होना है। यदि एक-दो व्यक्ति इसमें स्थाई रूप से कार्य कर रहे होते, तो आज यह चैनल काफी आगे होता। इसके अलावा विडियो क्वालिटी भी अभी उच्च स्तरीय नहीं है।

उन्होंने आशा व्यक्त की है कि आने वाले दिनों में कमियों को दूर किया जाएगा और सब्सक्रिप्शन बढ़ेंगे। उन्होने इसमें प्रत्यक्ष एवं परोक्ष रूप से सहयोग करने वाले सभी लोगों विशेष रूप से तकनिकी सहयोगी मणिष कुमार एवं सौरभ कुमार चौहान के प्रति आभार व्यक्त किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here