Sunday, July 14bnmusamvad@gmail.com, 9934629245

Bharat आज भारतरत्न सम्मान सम्मानित हुआ!

आज भारतरत्न सम्मान सम्मानित हुआ!

———————————-

प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी, समाजवादी विचारक एवं पूर्व मुख्यमंत्री, बिहार जननायक कर्पूरी ठाकुर को भारतरत्न देने की घोषणा हुई है। इससे कर्पूरी ठाकुर जी का तो सम्मान हुआ ही है, उससे अधिक भारतरत्न सम्मान सम्मानित हुआ है!

मंगलवार को इस संबंध में राष्ट्रपति भवन की ओर से बयान जारी कर ये जानकारी दी गई।

माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी एवं माननीय गृहमंत्री श्री अमित शाह जो को बहुत-बहुत साधुवाद।

’36 साल की तपस्या का फल मिला’

कर्पूरी ठाकुर के बेटे रामनाथ ठाकुर ने कहा कि हमें 36 साल की तपस्या का फल मिला है. मैं अपने परिवार और बिहार के 15 करोड़ो लोगों की तरफ से सरकार को धन्यवाद देना चाहता हूं।

कौन थे कर्पूरी ठाकुर?

कर्पूरी ठाकुर का जन्म समस्तीपुर जिले के पितौझिया गांव में हुआ था। पटना से 1940 में उन्होंने मैट्रिक परीक्षा पास की और स्वतंत्रता आंदोलन में कूद पड़े थे।‌कर्पूरी ठाकुर ने आचार्य नरेंद्र देव के साथ चलना पसंद किया. इसके बाद उन्होंने समाजवाद का रास्ता चुना और 1942 में गांधी के असहयोग आंदोलन में हिस्सा लिया। इसके चलते उन्हें जेल में भी रहना पड़ा।

बीएनएमयू में कर्पूरी ठाकुर

मालूम हो कि कुछ दिनों पूर्व बीएनएमयू के प्रशासनिक परिसर में मधेपुरा युथ एसोसिएशन (माया) के सौजन्य से काफी जद्जदोजहद के बाद जननायक कर्पूरी ठाकुर प्रतिमा स्थल का शिलान्यास किया गया है।

*कर्पूरी जयंती पर होंगे कई कार्यक्रम*

भूपेन्द्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय, मधेपुरा में बुधवार (24 जनवरी) को अपराह्न 01:00 बजे से जननायक कर्पूरी ठाकुर की 101 वीं जयंती समारोह का आयोजन सुनिश्चित है। इस अवसर पर सर्वप्रथम जननायक कर्पूरी प्रतिमा स्थल (प्रस्तावित), अतिथिशाला परिसर पर पुष्पांजलि की जाएगी। तदुपरांत केन्द्रीय पुस्तकालय सभागार, प्रशासनिक परिसर (ओल्ड परिसर) में परिचर्चा होगी और पूर्व कुलसचिव प्रो. शचीन्द्र की तीन पुस्तकों भारत की जाति-प्रथा : एक संवैधानिक व्याख्या, मनुस्मृति की तार्किक अध्ययन विधि एवं भारतीय चतुष्पदीर द्वन्द्ववादी सामाजिक ज्ञानात्मक तर्क-प्रणाली का लोकार्पण किया जाएगा।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कुलसचिव प्रो. मिहिर कुमार ठाकुर करेंगे। मुख्य अतिथि डीएसडब्ल्यू प्रो. नवीन कुमार होंगे। विषय प्रवेश कुलपति के निजी सहायक शंभू नारायण यादव करेंगे। संचालन माया के अध्यक्ष राहुल यादव एवं धन्यवाद ज्ञापन उपकुलकचिव (स्थापना) डॉ. सुधांशु शेखर करेंगे।

डॉ. शेखर ने बताया कि कुलपति प्रो. राजनाथ यादव के आदेशानुसार सभी पदाधिकारियों, संकायाध्यक्षों, विभागाध्यक्षों, प्रधानाचार्यों, शिक्षकों, कर्मचारियों एवं विद्यार्थियों की उपस्थिति का अनुरोध किया गया है।