BNMU SAMVAD

ABVP आक्रोश मार्च मंगलवार को।

आक्रोश मार्च आज
—-
संदेशखाली (पश्चिम बंगाल) में महिलाओं के साथ हो रहे उत्पीड़न को लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् 5 मार्च को राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन के तहत मधेपुरा नगर में भी बीएनएमयू प्रशासनिक परिसर से कॉलेज चौक तक आक्रोश मार्च निकालेगी। इस आशय की जानकारी सोमवार को प्रेस वार्ता में दी गई। प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए विभाग संयोजक सौरभ यादव ने कहा कि बंगाल की पवित्र भूमि देवी स्वरूप शक्ति की आराधनास्थली रही है।
दुर्भाग्यवस वर्तमान में पश्चिम बंगाल के संदेश खाली में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की वोट बैंक की संकीर्ण राजनीति के चलते महिलाओं की अस्मिता के साथ खिलवाड़ करने वाली ताकतों का अत्याचार चरम पर है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् मानवता को शर्मसार करने वाली इस घटना की कठोरता से भ्रत्सना करती है। ऐतिहासिक परिपेक्ष्य में देखें तो अक्टूबर-नवंबर 1946 में स्वतंत्रता पूर्व के तत्कालीन संयुक्त बंगाल में नोआखाली की विध्वंसक घटना भी जिहादियों के विस्तारवादी चरित्र का ही प्रतिबिंब थी। संदेशखाली की घटना भी इस की पुनरावृत्ति प्रतीत होती है। इस मौके पर जिला संयोजक नवनीत सम्राट ने राष्ट्रपति से यह मांग की कि सत्ता प्रायोजित एवं सत्ता संपोषित हिंसा एवं महिलाओं की सामूहिक अस्मिता के हनन पर अभिलंब अंकुश लगाए और इस पूरे प्रकरण की केंद्रीय एजेंसी से उच्च स्तरीय जांच कराई जाए। नगर मंत्री अंकित आनंद ने कहा कि महिला विरोधी मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को अपने पद पर रहने का कोई अधिकार नहीं है।