BNMU SAMVAD

BNMU *बनारस हिन्दू वि्वविद्यालय के प्रोफेसर डॉ भारतेंदु कुमार सिंह छह दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला में शामिल होंगे।*

*बनारस हिन्दू वि्वविद्यालय के प्रोफेसर डॉ भारतेंदु कुमार सिंह छह दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला में शामिल होंगे।*

*भौतिकी विज्ञान के प्रख्यात विद्वान प्रोफेसर डॉ भारतेंदु कुमार सिंह स्नातकोत्तर मनोविज्ञान विभाग बीएनएमयू में आयोजित कार्यशाला में किए गए आमंत्रित।*

*प्रोफेसर डॉ भारतेंदु कुमार सिंह बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय को रिसोर्स पर्सन बनाया गया शोधार्थियों को करेंगे प्रशिक्षित।*

*स्नातकोत्तर मनोविज्ञान विभाग बीएनएमयू में आयोजित राष्ट्रीय कार्यशाला में अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डॉ भारतेंदु कुमार सिंह बनाए गए रिसोर्स पर्सन।*

स्नातकोत्तर मनोविज्ञान विभाग बीएनएमयू में राष्ट्रीय कार्यशाला को लेकर प्रक्रियाओं में गति प्रदान कर दी गई है। कार्यशाला में भाग लेने के लिए पंजीयन कार्य भी तेजी से चल रहा है। शोधार्थियों में काफी उत्साह देखने में मिल रहा है। कार्यशाला के निदेशक प्रो डॉ एम आई रहमान ने बताया कि राज्य एवम् राज्य के बाहर के विश्वविधालय से भी पंजीयन प्राप्त हो रहा है। विद्वान वक्ताओं एवम् प्रशिक्षक को कार्यशाला में आमंत्रित करने का भरपूर प्रयास किया जा रहा है। उन्हों ने बताया कि पांच रिसोर्स पर्सन बिहार के विभिन्न विश्वविद्यालयों से, तीन विशेषज्ञ केन्द्रीय विश्वविद्यालयों से एवम् चार विषय विशेषज्ञ भूपेंद्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय से अपनी अपनी सहमति दे चुके हैं। इसी कड़ी में बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय, वाराणसी के भौतिक विज्ञान के प्रख्यात विद्वान प्रोफेसर डॉ भारतेंदु कुमार सिंह ने भी रिसोर्स पर्सन के रूप में अपनी सहमति प्रदान कर दी है। प्रोफेसर कुमार 25 मई को समापन समारोह के पूर्व सत्र में अपना व्याखान प्रस्तुत करेंगे।

*भारतेन्दु कुमार सिंह का संक्षिप्त परिचय:*

भारतेन्दु कुमार सिंह का जन्म बिहार प्रदेश के मधेपुरा जिले में एक शिक्षक परिवार में हुआ l आपने स्नातक (भौतिकी) की डिग्री मिथिला विश्वविद्यालय से 1986 में प्राप्त की I आपने स्नातकोत्तर (भौतिकी) की डिग्री 1989 में मगध विश्वविद्यालय से प्राप्त की l तदुपरांत पीएचडी हेतु उन्होने प्रतिष्ठित काशी हिन्दू विश्वविद्यालय की ओर रुख किया l 1995 में पीएचडी पाने के पश्चात आपने दो वर्षों तक काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में रिसर्च एसोसिएट के तौर पर कार्य किया l 1998 से 2001 तक आपने प्रतिष्ठित वाइज़मैन साइंस इंस्टिट्यूट, इस्रायल में पोस्ट डॉक्टरल फेलो के रूप में कार्य किया l 2002-2004 तक उन्होंने इटली की प्रतिष्ठित राष्ट्रीय नाभिकिय संस्थान में पोस्ट डॉक्टरल फेलो के रूप मे में कार्य किया l 2004 से 2005 तक अमेरिका में न्यूयॉर्क स्थित कोलम्बिया विश्वविद्यालय में शोध वैज्ञानिक के तौर पर आपने डार्क मैटर प्रयोग पर कार्य किया l 2005 में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में उपाचार्य ( रीडर ) के पद पर नियुक्ति हुई और वहां 2011 से आचार्य के पद पर हैं l पिछले तीन वर्षों से काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के आंतरिक गुणवत्ता सुनिश्चयन प्रकोष्ठ के समन्वयक की भी जिम्मेदारी थी l विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा संचालित स्ट्राइड स्कीम के राष्ट्रीय समन्वयक की भी जिम्मेदारी आपने चार वर्षों तक संभाली l आपकी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पार्टिकल फिजिक्स और संबंधित डिटेक्टर विशेषज्ञ के रूप में पहचान है और आपने लगभग तीन सौ से अधिक अंतरराष्ट्रीय स्तर के शोध पत्र प्रकाशित किया है l आपके द्वारा शिक्षित पीएचडी छात्र छात्राएं राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय विश्वविद्यालयों में कार्यरत हैं l भारत सरकार ने पिछले वर्ष आपको मध्य प्रदेश राज्य के एकमात्र भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी, डिजाइन और विनिर्माण संस्थान (आईआईआईटीडीएम), का नया निदेशक नियुक्त किया है।

इस अवसर पर आयोजन सचिव डॉ आनंद कुमार सिंह, कोषाध्यक्ष डा सिकंदर कुमार एवं आयोजन समिति के सदस्यों ने हर्ष व्यक्त किया है।