कविता/ प्यार लिख दो/ डॉ. कविता भट्ट ‘शैलपुत्री’

मेरी हथेली पर तुम अधरों से प्यार लिख दो,
समस्त आकाश-गंगाओं का संसार लिख दो।
कामनाएँ मुखर- अब यों सिसकती न छोड़ो,
मधुरगीतों के गुंजन व नित प्रसार लिख दो।
प्रियतम! आँखें मूँद- बाँचूँगी उम्रभर इन्हें ही,
तुम यह ढाई अक्षर का जीवन सार लिख दो।

-डॉ. कविता भट्ट ‘शैलपुत्री’

bnmusamvadhttps://bnmusamvad.com
B. N. Mandal University, Madhepura, Bihar, India

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

20,692FansLike
2,882FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles