NSS पर्यावरण-संरक्षण पर चर्चा। मानव और पर्यावरण के बीच महायुद्ध की स्थिति : डॉ. नरेश कुमार

राष्ट्रीय सेवा योजना शिविर के दौरान पौधारोपण किया गया और पर्यावरण-संरक्षण पर चर्चा हुई। इस अवसर पर मुख्य अतिथि बीएनमुस्टा के महासचिव सह आईक्यूएसी के निदेशक डॉ. नरेश कुमार ने कहा कि इस धरती पर मानव और पर्यावरण के बीच महायुद्ध की स्थिति है। मानव अपने लोभ में आकर पूरी धरती को हड़पने में लगा है और दुर्योधन सा व्यवहार कर रहा है। इससे हम सभी का जीवन ख़तरे में है।

उन्होंने कहा कि हमें प्रकृति के साथ सहकार एवं सहायोग वाली जीवनशैली अपनानी होगी। हम प्रकृति-पर्यावरण का संरक्षण करेंगे, तभी हमारा जीवन बचेगा।

उन्होंने कहा कि इस धरती पर मानव और पौधे दोनों का बराबर हिस्सा है, लेकिन हमने उससे छेड़छाड़ कर नष्ट कर रहे हैं। इससे असंतुलन पैदा हो गया है। उसमें नाराजगी है उसका जीवन ख़तरे में है। उसका आधा हिस्सा उसे मिलना ही चाहिए, नहीं तो हम सभी एक साथ मिट जायेंगें।

उन्होंने कहा कि हमें राष्ट्रकवि दिनकर’ द्वारा रचित “कृष्ण की चेतावनी” शीर्षक कविता का अंश समाज में समझाना होगा.! जो मानव और पर्यावरण के बीच महायुद्ध में “कृष्ण के चेतावनी ” कविता को लेकर पर्यावरण के पक्ष में शांति का संदेश लेकर उपस्थित होना होगा। हमें मानव समुदाय से कहना होगा-
“दो न्याय अगर तो आधा दो,/
पर, इसमें भी यदि बाधा हो,/
तो दे दो केवल पाँच ग्राम,/
रक्खो अपनी धरती तमाम।
हम वहीं खुशी से खायेंगे,/
तुम पर असि न उठायेंगे।
(नहीं तो)
भूलोक, अतल, पाताल देख,/
गत और अनागत काल देख,/
यह देख जगत का आदि सृजन,
यह देख, महाभारत का रण,
मृतकों से पटी हुई भू है,
पहचान, इसमें कहाँ तू है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रधानाचार्य डॉ. कैलाश प्रसाद यादव ने की‌। अतिथियों का स्वागत मनोविज्ञान विभागाध्यक्ष डॉ. शंकर कुमार मिश्र ने किया। संचालन कार्यक्रम पदाधिकारी डाॅ. सुधांशु शेखर और धन्यवाद ज्ञापन एनसीसी पदाधिकारी ले. गुड्डू कुमार ने किया।

कार्यक्रम के प्रारंभ में अतिथियों ने राष्ट्रनायक स्वामी विवेकानंद, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और महाविद्यालय के संस्थापक महामना कीर्ति नारायण मंडल के चित्र पर पुष्पांजलि किया। अतिथियों का अंगवस्त्रम् एवं पुष्पगुच्छ से स्वागत किया गया।

इस अवसर पर अतिथि व्याख्याता डॉ. राकेश कुमार, शोधार्थी सौरभ कुमार चौहान, मिथलेश कुमार मंडल, सुनयना कुमारी, पूजा मेहता, प्रेरणा भारती, अंजली कुमारी, एकता कुमारी, मारुति कुमारी, पूजा कुमारी, कुंदन कुमारी, नूतन कुमारी, पुनिता कुमारी, ब्यूटी, अंजली, अंजनी, शिल्पी, रश्मि, भीष्म, सुमित, रौशन, सावन, सूरज, राहुल, मयंक, विजय, अभिषेक, अंकित राज, मनीषा कुमारी, रौनक कुमारी, जूही कुमारी, विमल कुमार आदि उपस्थित थे।

bnmusamvadhttps://bnmusamvad.com
B. N. Mandal University, Madhepura, Bihar, India

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

20,692FansLike
3,590FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles