BNMU *स्वच्छता अभियान : वर्षों से बंद पड़े पार्क का कायाकल्प*

*स्वच्छता अभियान : वर्षों से बंद पड़े पार्क का कायाकल्प*

भारतीय संस्कृति में स्वच्छता को देवत्व के समतुल्य माना गया है। स्वच्छता के माध्यम से हम देवत्व एवं अमरत्व की ओर अग्रसर हो सकते हैं।

यह बात कार्यक्रम पदाधिकारी डाॅ. सुधांशु शेखर ने कही। वे ठाकुर प्रसाद महाविद्यालय, मधेपुरा में आयोजित स्वच्छ भारत अभियान में बोल रहे थे। यह कार्यक्रम राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) एवं राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित किया गया। इसके तहत सभी विद्यार्थियों ने वर्षों से बंद पड़े पार्क को खोलकर उसकी सफाई की और वहीं बैठकर सामूहिक जलपान भी किया। आगे पार्क में औषधीय पौधे लगाने की योजना है।

*व्यापक है स्वच्छता*

डाॅ. शेखर ने कहा कि स्वच्छता का अर्थ काफी व्यापक है। इसमें शरीर, मन एवं आत्मा तीनों की स्वच्छता समाहित है। अतः हम न केवल अपने शरीर एवं बाह्य पर्यावरण को स्वच्छ रखें, वरन् अपनी मन एवं आत्मा की स्वच्छता पर भी ध्यान दें।

उन्होंने कहा कि बाह्य शुद्धि एवं आंतरिक शुद्धि दोनों का महत्व है। हम दोनों को ध्यान में रखकर पूर्ण स्वच्छता के लिए कार्य करें और स्वच्छता को अपने व्यक्तिगत एवं सामाजिक जीवन में आत्मसात करें। हम अपने साथ-साथ, अपने समाज, राष्ट्र एवं विश्व को स्वच्छ बनाने में योगदान दें।

उन्होंने कहा कि आजकल स्वच्छता को प्रायः बाह्य शुद्धि या साफ-सफाई तक सीमित कर दिया गया है।हम स्वच्छता अभियान के भोंडे प्रदर्शन में लग गए हैं। कई लोगों ने ‘स्वच्छ भारत अभियान’ को झाडू एवं कूड़ा के साथ फोटो खिंचाओ अभियान बना दिया है।

*नियमित रूप से चलेगा अभियान*

एनसीसी ऑफिसर लेफ्टिनेंट गुड्डु कुमार ने कहा कि एनसीसी एवं एनएसएस दोनों का मुख्य उद्देश्य विद्यार्थियों को समाज से जोड़ना है।इसी कड़ी में एनसीसी एवं एनएसएस के संयुक्त तत्वावधान में पर्यावरण, स्वच्छता एवं सेहत को लेकर कई कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि अपने आस-पड़ोस को स्वच्छ रखना हम सबों की जिम्मेदारी है। अतः हम खुद भी स्वच्छ रहें और दूसरों को भी स्वच्छ रहने के लिए प्रेरित करें।
नियमित रूप से स्वैच्छापूर्वक स्वच्छता अभियान में अपनी भागीदारी निभाएँ। इस अभियान में अपना श्रम एवं समय देना है।

कार्यक्रम में शोधार्थी द्वय सारंग तनय एवं सौरभ कुमार चौहान, सेहत केंद्र के पीयर एडूकेटर द्वय सूरज प्रताप एवं निशु कुमारी, एसयूओ हिमांशु कुमार, यूओ प्रकाश कुमार, यूओ रिम्मी कुमारी, यूओ अन्नु कुमारी, सार्जेंट सत्यम कुमार, कुंदन कुमार, एम. डी. इरशाद, नीतीश कुमार, नीतीश, भावेश, भीष्म, हिटलर, मनोज, नरेश, अजीत, अरविंद, अभिषेक, आयुष आदि ने भाग लिया

bnmusamvadhttps://bnmusamvad.com
B. N. Mandal University, Madhepura, Bihar, India

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

20,692FansLike
3,372FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles